Shardiya Navratri 2022 3rd Day : नवरात्रि के तीसरे दिन की जाती है मां चंद्रघंटा की पूजा, जानिए पूजा विधि, मंत्र व उपाय

Shardiya Navratri 2022 3rd Day : शारदीय नवरात्रि की शुरुआत हो चुकी है। नवरात्रि के दौरान नौ दिनों तक मां भगवती के अलग अलग स्वरूपों की पूजा की जाती है। मां दुर्गा का तीसरा रूप चंद्रघंटा नाम से जाना जाता है। नवरात्रि के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा की जाती है। मान्यता है कि […]

संस्कृति

Shardiya Navratri 2022 3rd Day : शारदीय नवरात्रि की शुरुआत हो चुकी है। नवरात्रि के दौरान नौ दिनों तक मां भगवती के अलग अलग स्वरूपों की पूजा की जाती है। मां दुर्गा का तीसरा रूप चंद्रघंटा नाम से जाना जाता है। नवरात्रि के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा की जाती है। मान्यता है कि मां चंद्रघंटा की पूजा और भक्ति करने से आध्यात्मिक शक्ति प्राप्त होती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मां चंद्रघंटा को राक्षसों का वध करने वाला कहा जाता है। मान्यता है कि मां चंद्रघंटा ने अपने भक्तों के कल्याण व दुख हरने के लिए हाथों में त्रिशूल, तलवार और गदा रखा हुआ है। माता चंद्रघंटा के मस्तक पर घंटे के आकार का अर्धचंद्र बना हुआ है, जिस वजह से भक्त मां को चंद्रघंटा कहते हैं।

मां चंद्रघंटा का स्वरूप

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार मां दुर्गा का तीसरा स्वरूप को चंद्रघंटा कहा जाता है। देवी के मस्तक पर घंटे के आकार का अर्द्धचंद्र सुशोभित होता है। इसलिए इनका नाम चंद्रघंटा पड़ा। देवी के इस रूप के पूजन से भक्तों का इहलोक और परलोक दोनों सुधर जाता है। माता के शरीर का रंग स्वर्ण के समान चमकीला है। देवी के तीन नेत्र और दस हाथ हैं। इनके कर-कमल गदा, धनुष-बाण, खड्ग, त्रिशूल और अस्त्र-शस्त्र लिए, अग्नि जैसे वर्ण वाली ज्ञान से जगमगाने वाली और दीप्तिमती हैं। ये सिंह पर आरूढ़ हैं तथा युद्ध में लड़ने के लिए उन्मुख हैं। मां की कृपा से साधक के समस्त पाप और बाधाएं विनष्ट हो जाती है। देवी की कृपा से जातक पराक्रमी और निर्भयी हो जाता है।

मां चंद्रघंटा पूजा विधि

नवरात्रि के तीसरे दिन सर्वप्रथम जल्दी उठकर स्नानादि करने के पश्चात पूजा स्थान पर गंगाजल छिड़कें। फिर मां चंद्रघंटा का ध्यान करें और उनके समक्ष दीपक प्रज्वलित करें। अब माता रानी को अक्षत, सिंदूर, पुष्प आदि चीजें अर्पित करें।

मां चंद्रघंटा का भोग और प्रिय रंग

मां चंद्रघंटा की पूजा के समय सफेद, भूरा या स्वर्ण रंग का वस्त्र पहनना शुभ माना जाता है। इसके साथ भक्त इस दिन दूध से बने मिष्ठान का भोग लगा सकते हैं। मान्यता है कि माता को शहद भी प्रिय है।

 

Shardiya navratri2022: On the occasion of Navratri this year, offer nine types of Bhog to Maa Durga

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि Cityspidey.in किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.