द्वारका की सड़कों को जीवनदान देने की तैयारी, होगी कारपेटिंग

उपनगरी द्वारका की जर्जर सड़कों को एक बार फिर जीवनदान देने की तैयारी की जा रही है। यदि सब कुछ सही रहा तो मानसून के बाद उपनगरी की सड़कों पर तारकोल की नई परत बिछाने का कार्य शुरू हो जाएगा।

Delhi

Dwarka: उपनगरी द्वारका की जर्जर सड़कों को एक बार फिर जीवनदान देने की तैयारी की जा रही है। यदि सब कुछ सही रहा तो मानसून के बाद उपनगरी की सड़कों पर तारकोल की नई परत बिछाने का कार्य शुरू हो जाएगा। फिलहाल डीडीए ने इस दिशा में कागजी कार्रवाई से जुड़ी प्रक्रिया को शुरू कर दिया है। योजना से जुड़ा टेंडर जल्द ही जारी किया जाएगा। द्वारका के निवासियों ने डीडीए द्वारा किए जाने वाले इस कार्य का स्वागत किया है, लेकिन यह भी मांग की है जब तक तारकोल की नई परत नहीं बिछा दी जाती, तब तक उन इलाकों में मरम्मत का कार्य शुरू किया जाए, जहां सड़क पर गड्ढे बने हैं। यह भी पढ़ें : Eat Right मेले में लोगों को मिली सही खानपान की जानकारी

मास्टर प्लान सड़कों की होगी कारपेटिंग

सड़कों पर तारकोल की नई परत बिछाने का कार्य मास्टर प्लान सड़कों से शुरू होगा। उपनगरी में मास्टर प्लान सड़कों का कुल नेटवर्क करीब 70 किलोमीटर है। इसके अंतर्गत दो किस्म की सड़कों को शामिल किया जाता है। इसमें 45 व 60 किलाेमीटर चौड़ी सड़कों को शामिल किया जाता है। 60 मीटर चौड़ी सड़कें वे हैं जो एक सेक्टर को दूसरे सेक्टर से विभाजित करती है। इसके साथ सर्विस लेन का भी प्रावधान होता है। वहीं 45 मीटर चौड़ी सड़कें सेक्टर की अंदरूनी सड़कें हैं जिससे सेक्टर के दो अलग अलग हिस्से आपस में विभाजित होते हैं। यह भी पढ़ें : Nag Panchami 2022 : क्यों मनाई जाती है नागपंचमी, क्या है इसका पौराणिक महत्व

अभी क्या है हाल

डीडीए अभियंताओं का कहना है कि अभी इस योजना के तहत टेक्निकल बिड किया जा चुका है। अब कारपेटिंग से जुड़ा अंतिम टेंडर जारी किया जाएगा। बारिश के दौरान यह कार्य इसलिए नहीं हो सकता है क्योंकि अभी तारकोल की परत जमने में दिक्कत होगी। लेकिन इस कार्य को हर हाल में ठंड से पहले पूरा कर लिया जाएगा, क्योंकि फिर ठंड के मौसम में भी तारकोल की परत नहीं जम पाती। यह भी पढ़ें : गाजियाबाद में इन जगहों पर लज़ीज़ नाश्ते से करें अपने दिन की शुरुआत

द्वारका की सड़कों पर वाहनों का दबाव बढ़ता ही जा रहा है। इसे देखते हुए यहां की सड़कों पर प्रत्येक वर्ष तारकोल की परत बिछाई जानी चाहिए। अफसोस की बात यह है कि इस कार्य को प्रत्येक वर्ष करने के बजाय दो तीन वर्षों में एक बार किया जाता है।
प्राेमिला मलिक, जारगण अपार्टमेंट, सेक्टर 23

द्वारका की सड़कों की कारपेटिंग तो ठीक है। लेकिन अभी फिलहाल उन गड्ढों को भरा जाना चाहिए जो बारिश के दौरान वाहन चालकों के लिए मुसीबत बने हुए हैं। इस कार्य को अविलंब शुरू किया जाना चाहिए। डीडीए पता नहीं क्यों इस कार्य में विलंब कर रही है।
माधव पांडेय, सेक्टर 16 बी, द्वारका

Leave a Reply

Your email address will not be published.