एनएसयूटी द्वारका में 600 युवाओं ने एक साथ किया योग

योगाभ्यास कार्यक्रम में योगाचार्य आचार्य स्वाति झा ने सभी को योग प्रोटोकॉल के बारे में बताया और योगासनों की जानकारी दी।

न्यूज़

Dwarka: विश्व योग दिवस के उपलक्ष्य में सेक्टर तीन स्थित नेताजी सुभाष प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (NSUT) में सामूहिक योगाभ्यास का आयोजन किया गया। इस आयोजन में बड़ी संख्या में युवाओं ने हिस्सेदारी की। उपनगरी के विभिन्न हिस्सों से आए युवाओं के अलावा दिल्ली के विभिन्न क्षेत्रों में स्थित शैक्षणिक संस्थानों के विद्यार्थियों ने भी यहां शिरकत की।

कुलपति व उपायुक्त ने भी किया योगाभ्यास

विश्वविद्यालय परिसर में युवाओं का साथ देने विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. जेपी सैनी व दक्षिण पश्चिम जिला उपायुक्त हेमंत सहित अनेक वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। कुलपति जेपी सैनी ने इस अवसर पर कहा कि योग की महत्ता के बारे में अब बताने का दौर नहीं रहा। योग की महत्ता से भारत ही नहीं पूरी दुनिया के लोग भलीभांति वाकिफ हो चुके हैं।

योग प्रोटोकॉल का किया गया पालन

योगाभ्यास कार्यक्रम में योगाचार्य आचार्य स्वाति झा ने सभी को योग प्रोटोकॉल के बारे में बताया और योगासनों की जानकारी दी। उन्होंने सबसे पहले प्रार्थना करवाई। इसके बाद सदलज या चालन क्रिया, शिथिलिकरण अभ्‍यास कराया। इसके बारे में उन्होंने कहा कि विशेष रूप से शरीर के अंगों को थोड़ा शिथिल या लचीला बनाने के लिए यह किया जाता है ताकि कोई भी योगासन करने के दौरान शरीर इसके अनुकूल रहे और योगासन करने में आसानी रहे। इसके बाद ताड़ासन, वृक्षासन, पादहस्‍तास, अर्धचक्रासन, त्रिकोणासन, भद्रासन, वज्रासन या वीरासन, अर्ध उष्‍ट्रासन, उष्‍ट्रासन, शशांकासन, उत्‍तानमंडूकास, मकरासन, भुजंगासन, शलभासन, सेतुबंधासन, उत्‍तानपादासन, अर्धहलासन, पवनमुक्‍तासन, शवासन, कपालभाति, प्राणायाम अनुलोम विलोम, शीतली व भ्रामरी कराया गया। कार्यक्रम के अंत में विश्‍व, देश, राज्‍य, समाज की शांति के लिए शांतिपाठ कराया गया।

ये भी पढ़ें: Dwarka: पार्क बनी पाठशाला, लग रही योग की कक्षा

600 युवाओं ने की हिस्सेदारी

कार्यक्रम की तैयारी पिछले कई दिनों से चल रही थी। इसके अलावा छोटे छोटे समूह बनाकर आनलाइन कक्षाओं का दौर पहले ही शुरू था। रविवार को जब युवा यहां योगाभ्यास के लिए जुटे तो वे पूरी तरह प्रशिक्षित नजर जाए। कुल 600 युवाओं ने यहां हिस्सेदारी की। ये युवा चौ. ब्रह्मप्रकाश आयुर्वेदिक चरक संस्थान, दौलत राम कॉलेज, जानकी देवी मेमोरियल कॉलेज, सत्यवती कॉलेज, नेहरू युवा केंद्र संगठन के अलावा अन्य संस्थाओं से यहां आए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.