दिल्ली-एनसीआर में कई जगहों पर गंभीर स्तर पर पहुंचा एक्यूआई

दिल्ली एनसीआर में एक बार फिर प्रदूषण का स्तर गंभीर स्तर तक पहुंच गया है।

Delhi न्यूज़ सेहत

दिल्ली एनसीआर में एक बार फिर प्रदूषण का स्तर गंभीर स्तर तक पहुंच गया है। दीपावली पर हुई आतिशबाजी, पराली के धुएं ने दिल्ली एनसीआर में वायु गुणवत्ता काफी खराब स्तर तक पहुंचा दी है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण ब्यूरो और दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण ब्यूरो द्वारा साझा किए गए आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली एनसीआर में विभिन्न स्थानों पर एक ‘गंभीर’ एक्यूआई दर्ज किया गया।

1 नवंबर, 2022 को दोपहर करीब 12:30 बजे एक्यूआई आईटीओ दिल्ली में 424, मेजर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम में 422, पूसा पश्चिमी दिल्ली में 416; आरके पुरम में 433; ओखला फेज-2 (दक्षिण-पश्चिम दिल्ली) 422, मंदिर मार्ग (मध्य दिल्ली) में 355, लोधी रोड में 379 और दिलशाद गार्डन 385 इसके अलावा कई अन्य स्थानों पर एक्यूआई को ‘बहुत खराब’ बताया गया।

उल्लेखनीय है कि पंजाब में पराली जलाने को प्रदूषण के प्रमुख कारणों में से एक माना जा रहा है। खराब वायु गुणवत्ता का लोगों पर विभिन्न स्वास्थ्य प्रभाव पड़ सकता है। एक स्व-प्रशिक्षित पर्यावरण संरक्षणवादी विक्रांत तोंगड कहते हैं, “दिल्ली एनसीआर के लिए घटती वायु गुणवत्ता एक बारहमासी मानवीय चिंता है। जिन लोगों को सांस लेने में समस्या है और अस्थमा से पीड़ित हैं, उन्हें इससे बहुत नुकसान हो सकता है। हमें तहत इसे नियंत्रित करने के लिए ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान के तहत सभी बिंदुओं के पूर्ण कार्यान्वयन की आवश्यकता है। ।”

गौरतलब है कि शून्य और 50 के बीच एक्यूआई को “अच्छा”, 51 और 100 “संतोषजनक”, 101 और 200 “मध्यम”, 201 और 300 “खराब”, 301 और 400 “बहुत खराब”, और 401 और 500 “गंभीर” माना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.