नुक्कड़ नाटक कर तंबाकू से दूर रहने की अपील की

द्वारका सेक्टर 9 स्थित इंदिरा गांधी अतिविशिष्ट अस्प्ताल में एक नुक्कड़ नाटक आयोेजित किया गया। नुक्कड़ नाटक देखने वालों में न सिर्फ अस्प्ताल के चिकित्सक व स्वास्थ्य कर्मचारी शामिल थे बल्कि उपनगरी के विभिन्न हिस्सों के लोग व यहां उपचार कराने आए लोगों ने इसे देखा।

न्यूज़

Dwarka: तंबाकू को लेकर इन दिनों जागरूकता अभियान जगह जगह आयोजित किया जा रहा है। इस क्रम में द्वारका सेक्टर 9 स्थित इंदिरा गांधी अतिविशिष्ट अस्प्ताल में एक नुक्कड़ नाटक आयोेजित किया गया। नुक्कड़ नाटक देखने वालों में न सिर्फ अस्प्ताल के चिकित्सक व स्वास्थ्य कर्मचारी शामिल थे बल्कि उपनगरी के विभिन्न हिस्सों के लोग व यहां उपचार कराने आए लोगों ने इसे देखा।

मैं तंबाकू हूं, हल्के में नहीं लेना

नुक्कड़ नाटक का मंचन कर तंबाकू व अन्य नशे से दूर रहने की अपील की। नुक्कड़ नाटक में हिस्सा लेने वाले एक कलाकार ने तंबाकू का किरदार निभाते हुए कहा कि मैं तंबाकू हूं, मुझे हल्के में नहीं लेना। एक बार दोस्ती कर लिए तो बस मैं चिपका ही रहूंगा। मुझे दूर करने के लिए इच्छाशक्ति, स्वस्थ जीवनशैली अपनाना निहायत जरूरी है।

कई तरह की बीमारियों का कारण

तंबाबू से न सिर्फ मुंह का कैंसर, बल्कि इसके उत्पादों के सेवन से फेफड़े की बामरियों, हृदय संबंधी बीमारियां भी आपको हो सकती है्, और तो और लीवर पर भी तंबाकू का विपरीत असर होता है।

ये भी पढ़ें: Dwarka: उपनगरी के विकास से जुड़े मुद्दे को लेकर द्वारका फोरम ने मुख्य अभियंता से की मुलाकात

हर 9 वां व्यक्ति तंबाकू का सेवन करने वाला

तंबाकू का सेवन करने वालों की संख्या भारत में बहुत ज्यादा है। नुक्कड़ नाटक के दौरान बताया गया कि भारत में हर 9वां व्यक्ति किसी न किसी रूप में तंबाकू का सेवन करता है। कई लोग तंबाकू को खाते हैं तो कई लोग इस स्मोकिंग करते हैं। तंबाकू कई प्रकार की लाइलाज बीमारियों और हमारी क्वालिटी ऑफ लाइफ को खराब करने के लिए बहुत घातक है। तंबाकू सेवन करने के कारण कई प्रकार के कैंसर और स्वास्थ्य समस्याएं आपको धीरे-धीरे जकड़ लेती हैं और आपको इसके बारे में पता भी नहीं चलता।

लोगों की बात

द्वारका निवासी मनीष बताते हैं कि इस तरह के आयोजन खासकर स्कूलों व कालेजों के आसपास होने चाहिए। उपनगरी में बड़ी संख्या में स्कूल व कॉलेज के छात्र नशे की दलदल में फंसते जा रहे हैं, यदि इस तरह के कार्यक्रम स्कूलों व कॉलेजों के पास होंगे तो उसका काफी फायदा होगा। द्वारका सेक्टर 16 निवासी माधव पांडेय बताते हैं कि इस तरह के कार्यक्रम उपनगरी की विभिन्न सोसाइटियों में भी आयोजित होने चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.