अगर आप ब्यूटी पार्लर जाने का प्लान कर रही हैं तो बहुत ज़रूरी है कुछ ख़ास सावधानियां बरतना।

ब्यूटी पार्लर से आपको किसी भी तरह का कोई इंफेक्शन न हो जाए। इसके लिए हम यहां आपको बता रहे हैं कुछ ख़ास सावधानियां।

न्यूज़ सेहत

Beauty Parlour Tips:  कोरोना जैसी बीमारी के संक्रमण ने न सिर्फ़ पूरी दुनिया के जीने के तौर-तरीके बदलकर रख दिए हैं, वहीं इस बात का महत्व भी और बढ़ा दिया है कि किसी भी तरह के इंफेक्शन को हल्के में न लिया जाए। इससे बचने का सबसे अच्छा उपाय है, पहले से ही बरती जाने वाली सावधानी। कहा भी तो जाता रहा है हमेशा से कि सावधानी में ही सुरक्षा है। हां, यहां एक बात और है कि कोरोना ने और चाहे जो बदला हो, लेकिन हर दिल में अपने को सुंदर बनाने, ख़ूबसूरत दिखाने की जो चाह होती है, वह न बदली है, न कभी। फिर चाहे महिलाएं हों या पुरुष, अपने रूप को निखारने-संवारने के लिए आज सभी ब्यूटी पार्लर्स का सहारा लेते हैं। अब यूं तो पहले भी ब्यूटी पार्लर्स में कुछ बातों का ध्यान रखने की ज़रूरत पड़ती थी, लेकिन कोरोना काल के बाद तो ये ज़रूरत और भी ज़्यादा बढ़ गई है, ताकि ब्यूटी पार्लर से आपको किसी भी तरह का कोई इंफेक्शन न हो जाए। इसके लिए हम यहां आपको बता रहे हैं कुछ ख़ास सावधानियां।

घर पर ही ले सकते हैं सैलून सर्विस

अपनी ख़ूबसूरती को निखारने-संवारने के लिए आपके पास दो तरीके हैं। पहला कि आप घर पर ही कुछ घरेलू तौर-तरीकों की मदद से ख़ुद ही अपना ट्रीटमेंट कर लें और अगर आप ख़ुद ऐसा नहीं कर पा रही हैं या पूरी तरह से रिलैक्स होने के लिए आप ब्यूटीशियन की ही मदद लेना चाहती है तो फिर किसी विश्वसनीय ब्यूटी सर्विस प्रोवाइड करवाने वाले ग्रुप की मदद से किसी ब्यूटीशियन को अपने घर पर ही बुलवा लीजिए। ब्यूटीशियन के सेनेटाइज़ होकर सर्विस देने के चलते यहां संक्रमण का डर नहीं रहेगा। साथ ही आप ख़ुद बाहर जाने से भी बच जाएंगी।

यह भी पढ़ें: संजना तिवारी- किताबों के बीच किताबी-सी शख़्सियत

सुरक्षा मानकों का रखें ख़याल

अगर आप ब्यूटी ट्रीटमेंट किसी पार्लर में ही जाकर लेना चाहती हैं तो फिर यहां पहली बात जो लागू होती है, वह ये है कि आप थोड़े से पैसे बचाने के लिए किसी भी ऐसे ब्यूटी पार्लर में न जाएं, जहां ज़रूरी सुरक्षा मानकों का ख़याल नहीं रखा गया है। जहां एक तरह इस तरह के अच्छे पार्लर होते हैं, जो अपने कस्टमर्स की सुरक्षा और उन्हें किसी भी तरह के इंफेक्शन से बचाने के लिए पूरा-पूरा ध्यान देते हैं, साफ़-सफ़ाई, हाइजिन का ध्यान रखते हैं, सेनेटाइज़ेशन भी रेग्यूलर और हर ज़रूरी उपकरण का होता है तो दूसरी तरफ़ ऐसे भी ब्यूटी सैलून या पार्लर्स की कमी नहीं है, जो थोड़े से लालच के चलते ग्राहकों की सुरक्षा से खिलवाड़ करते हैं। सो बहुत ज़रूरी हो जाता है कि पार्लर का चुनाव सोच-समझकर करें। ऐसी जगह ही चुनें, जहां पर प्रॉपर बॉडी टैम्परेचर चेकिंग के बाद ही एंट्री दी जा रही हो। स्टाफ़ ने प्रॉपर मास्क पहना हुआ हो, साथ ही स्क्रीन भी कैरी कर रखी हो। हर सर्विस के बाद वे सही तरीके से हाथ धोकर या सेनेटाइज़ करके ही चीज़ों को छू रहे हों। नॉर्मल तौलिये की जगह डिस्पोज़ेबल टिश्यूज़ या नैपकिन का इस्तेमाल किया जा रहा हो।

अपॉइंटमेंट लेकर ही जाएं

कोरोना के बाद से भले ही हर जगह सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा जा रहा हो, लेकिन बहुत सारी जगहों पर लापरवाही भी देखने को मिलती है और उस पर आप कुछ करने की हालत में नहीं रह जाते। ऐसी स्थिति से बचने के लिए बेहतर है कि आप अपने पसंदीदा और भरोसेमंद ब्यूटी पार्लर या सैलून में पहले से अपॉइंटमेंट लेकर ही जाएं। इससे न सिर्फ़ आप अतिरिक्त भीड़-भाड़ से बच सकेंगी, बल्कि आपका समय भी इंतज़ार में ख़राब नहीं होगा। ये स्थिति इस समय इसलिए भी थोड़ा ख़राब है कि लॉकडाउन के चलते लोगों के कामकाज पर बहुत बुरा असर पड़ा है, इसलिए अब लोग सावधानी तो बरत रहे हैं, लेकिन फिर कोई न कोई चूक कर ही बैठते हैं। इससे ज़्यादातर ब्यूटी पार्लर या सैलून इस स्थिति में नहीं हैं कि वे अपने यहां चलकर आए हुए कस्टमर को वापस भेज दें। यही वजह है कि न चाहते हुए भी आपको क्राउड का सामना करना पड़ सकता है। सो सबसे अच्छा है कि आप अपॉइंटमेंट लेकर जाने को ही प्राथमिकता दें।

सही प्रॉडक्ट पर दें ध्यान

आप बात आती है कि आप पर किन प्रॉडक्ट का इस्तेमाल किया जा रहा है। बेशक, कुछ ब्रांड आपके जाने-पहचाने हो सकते हैं, जिनका उपयोग आपने पहले किया है, लेकिन इनके मामले में भी इस समय की पहली सावधानी यही है कि आप उन्हें इस्तेमाल करने से पहले उनकी एक्सपायरी डेट देखना न भूलें। अगर ये पार्लर में पहले से मौजूद है, तब भी ये बात याद रखिए कि पार्लर भी लॉकडाउन में लगभग साल भर ही बंद रहे हैं। ये सब अचानक हुआ था और अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हुए भी कोई बहुत ज़्यादा समय नहीं बीता है। सो फ्रेश डेट के प्रॉडक्ट ही यूज़ हो रहे हैं, ये देख लेने में कोई हर्ज नहीं हैं। थ्रेडिंग, अपरलिप वगैरह तो ठीक है, लेकिन कोई फेशियल या हेयर ट्रीटमेंट लेते समय बहुत ज़्यादा प्रयोग न करें। हम ये नहीं कर रहे हैं कि सारे प्रॉडक्ट ख़राब होते हैं, बल्कि हमारे कहने का मतलब है कि कई बार बहुत मशहूर या जाने-पहचाने ब्रांड के भी सभी प्रॉडक्ट हर किसी को सूट नहीं करते। ऐसे में ये ज़रूरी है कि आप किसी भी ब्यूटी प्रॉड्क्ट के लिए हां न कर दें, चाहे ब्यूटीशियन कितना ही ज़ोर क्यों न दे। जो चीज़ें आपके भरोसे के दायरे में जगह बना चुकी हैं, उन्हीं को आज़माने में कोई बुराई नहीं है। अगर थोड़ी सी सावधानी से आप किसी भी तरह के इंफेक्शन से अपना बचाव कर सकती हैं तो ऐसा करने में हर्ज ही क्या है।

आख़िर कहते भी तो हैं न कि समस्या से सावधानी भली। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.