Delhi: Khyala में रक्तदान शिविर का आयोजन , 80 लोगों ने किया रक्तदान

Delhi: तिलक नगर से सटे ख्याला में रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में 80 लोगों ने रक्तदान किया।

न्यूज़

Delhi: तिलक नगर (Tilak Nagar) से सटे ख्याला (Khyala)में रक्तदान शिविर (Blood donation camp) का आयोजन किया गया। शिविर में 80 लोगों ने रक्तदान किया। रक्तदान करने वालों ने इस बात का प्रण लिया कि वे स्वयं समय समय पर रक्तदान करने के अलावा दूसरे सक्षम व्यक्ति को भी रक्तदान को प्रेरित करेंगे। इस रक्तदान शिविर में शामिल रेडक्रॉस सोसाइटी की टीम डॉ. शिल्पा ने कहा कि रक्तदान बेहद जरूरी दान है। हर सक्षम व्यक्ति को रक्तदान के लिए आगे बढ़कर आना चाहिए। रक्त ऐसी चीज है, जिसका कोई विकल्प अभी तक विज्ञान तैयार नहीं कर सका है। ऐसे में इसका इंतजाम दान के द्वारा ही हो सकता है।

संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन के तत्वावधान में आयोजित इस रक्तदान शिविर में सीएलल गुलाटी, डॉ. नरेश अरोड़ा, बब्बू अरोड़ा, मधु लांबा, मुखी गुलशन राय सहित अनेक व्यक्ति शामिल हुए। शिविर आयोजन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले सीएल गुलाटी ने सभी रक्तदाताओं को बधाई दी। उन्होंने मिशन के ध्येय वाक्य  ‘रक्त नाडियों में बहे, नालियों में नहीं’ की याद दिलाते हुए कहा कि यह शिविर हमारी सोच का व्यवहारिक रूप है। लोगों को जीवन जीते हुए रक्तदान कर जीवन दान कर रहे हैं, वहीं मानव कल्याण में अंगदान भी कर रहे हैं। रक्तदान शिविर में 114 रक्तदाता का पंजीकरण किया गया जिसमें से 80 यूनिट रक्त ही लिया जा सका। इसमें महिलाओं ने भी रक्तदान किया। इस रक्तदान के अवसर पर संयोजक मधु लांबा ने रक्तदाताओं का उत्साह बढाया और आभार व्यक्त किया।

ये भी पढ़ें: आत्मसुरक्षा शिविर का समापन, दिए गए सर्टिफिकेट

रक्त की जरूरत कब पड़ जाए किसी को नहीं पता

रक्त की जरूरत कब किस इंसान को पड़ जाए, कहा नहीं जा सकता। क्या पता आपके खून की कुछ बूंदे किसी जरूरतमंद की सांसों को थमने से रोक दें। प्रचार-प्रसार के बावजूद आज भी बहुत से लोगों के दिलोदिमाग में रक्तदान को लेकर कुछ गलत धारणाएं विद्यमान हैं। यही वजह है कि बहुत प्रयास के बावजूद बमुश्किल कम रक्त उपलब्ध हो पाता है।

तीन महीने में एक बार कर सकते हैं रक्तदान

शिविर में आए चिकित्सकों ने लोगों को समझाया कि स्वस्थ व्यक्ति को कम से कम तीन महीने के अंतराल में एक बार रक्तदान जरूर करना चाहिए। रक्तदाता से एक बार में 300 से 400 मिलीलीटर रक्त लिया जाता है, जो शरीर में उपलब्ध रक्त का लगभग 15 वां भाग होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.