दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी में 11 नए अस्पताल स्थापित किए जाएंगे

Delhi: दिल्ली की बढ़ती आबादी के साथ बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं की जरूरत स्वाभाविक है। दिल्ली में विश्व स्तरीय स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए, दिल्ली सरकार राष्ट्रीय राजधानी में 11 नए अस्पतालों का निर्माण कर रही है, जिससे दिल्ली सरकार के अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या में 10,000 बिस्तरों की वृद्धि होगी। इस संबंध में […]

Delhi न्यूज़
Delhi: 11 new hospitals to be set up across the national capital

Delhi: दिल्ली की बढ़ती आबादी के साथ बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं की जरूरत स्वाभाविक है। दिल्ली में विश्व स्तरीय स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए, दिल्ली सरकार राष्ट्रीय राजधानी में 11 नए अस्पतालों का निर्माण कर रही है, जिससे दिल्ली सरकार के अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या में 10,000 बिस्तरों की वृद्धि होगी।

इस संबंध में दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने 19 सितंबर को अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की।पीडब्ल्यूडी और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने निर्माण कार्यों की प्रगति की समीक्षा की। इसके साथ ही उपमुख्यमंत्री ने अधिकारियों को सिरासपुर, ज्वालापुरी, मादीपुर, हस्तसाल (विकासपुरी) में बन रहे अस्पतालों के साथ ही 6838 अस्पताल बेड की क्षमता वाले 7 नए अर्धस्थायी अस्पतालों के निर्माण कार्य को पूरा करने के निर्देश दिए।

बैठक के दौरान अधिकारियों ने बताया कि इसके अंत तक अधिकांश अस्पतालों का निर्माण कार्य पूरा कर लिया जाएगा वर्ष, जबकि अन्य को 2023 के मध्य तक पूरा कर लिया जाएगा। उपमुख्यमंत्री हर 15 दिन में अस्पतालों की प्रगति की समीक्षा कर रहे हैं।

डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा, ‘इन 11 अस्पतालों में 3237 बेड की क्षमता वाले 4 अस्पताल और 6838 आईसीयू बेड की क्षमता वाले 7 अर्ध-स्थायी आईसीयू अस्पताल शामिल हैं। ये COVID महामारी और आपातकालीन मामलों जैसी स्थितियों से कुशलतापूर्वक लड़ने में मददगार साबित होंगे। ये नए अस्पताल दिल्ली के स्वास्थ्य ढांचे को बढ़ावा देंगे और लाखों दिल्लीवासी विश्व स्तरीय स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे।

दिल्ली सरकार ज्वालापुरी, मादीपुर, हस्तसाल और सिरसपुर में अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ 4 नए अस्पताल बना रही है। इनमें से सिरासपुर के 11 मंजिला अस्पताल की क्षमता 1164 बिस्तरों की होगी, जबकि अन्य प्रत्येक की क्षमता 691 बिस्तरों की है। ज्वालापुरी, मादीपुर और हस्तसाल के अस्पतालों में प्रत्येक में 10 मंजिला इमारतें होंगी। इन अस्पतालों का निर्माण जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा।

आपातकालीन और गंभीर मामलों से निपटने के लिए, दिल्ली सरकार राजधानी में 7 नए आईसीयू अस्पतालों को ला रही है। इस परियोजना के तहत, शालीमार बाग में 4 मंजिला अस्पताल बनाएगी, 1430 बिस्तरों की क्षमता वाला किराड़ी में 458 बिस्तरों की क्षमता वाला 5 मंजिला अस्पताल, सुल्तानपुरी में 527 बिस्तरों की क्षमता वाला 4 मंजिला अस्पताल, जीटीबी परिसर में 1912 बिस्तरों की क्षमता वाला 5 मंजिला अस्पताल है। यह गीता कॉलोनी के चाचा नेहरू चिल्ड्रन हॉस्पिटल में 610 बेड की क्षमता वाला 5 मंजिला अस्पताल, सरिता विहार में 336 बेड की क्षमता वाला 5 मंजिला अस्पताल और 1565 बेड की क्षमता वाला 4 मंजिला अस्पताल का निर्माण कर रहा है।

336 आईसीयू बेड की क्षमता वाले सरिता विहार में बन रहे नए आईसीयू अस्पताल में उच्च क्षमता वाले वेटिंग एरिया, रजिस्ट्रेशन रूम, इलेक्ट्रिक रूम, स्टाफ रूम, इमरजेंसी रूम, नर्स स्टेशन समेत अत्याधुनिक सुविधाएं होंगी। प्रथम तल पर अग्नि नियंत्रण कक्ष। इसमें सीटी स्कैन, एक्स-रे, डायग्नोस्टिक रिसेप्शन, फार्मेसी, वार्ड एरिया और मुर्दाघर की भी सुविधा होगी। अस्पताल की दूसरी मंजिल पर वेटिंग एरिया, फार्मेसी, कैफेटेरिया, एचएचयू रूम, वार्ड एरिया, नर्स स्टेशन आदि होंगे। तीसरी मंजिल में स्क्रबिंग चेंजिंग रूम, लॉकर रूम, सैंपल कलेक्शन रूम, रिकॉर्ड रूम, कोल्ड स्टोरेज रूम होगा। , लैब, डॉक्टरों और कर्मचारियों के लिए भोजन क्षेत्र, ब्लड बैंक, आदि। चौथी मंजिल में ओटी और एचएचयू कमरे आदि होंगे।

बैठक में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने मोहल्ला क्लीनिक के निर्माण कार्यों की प्रगति की भी समीक्षा की। अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में 12 नए मोहल्ला क्लीनिक तैयार हैं। इन मोहल्ला क्लीनिकों का निर्माण कार्य पूरा कर लिया गया है। इसके अलावा 52 मोहल्ला क्लीनिकों का निर्माण कार्य जोरों पर चल रहा है। उनका निर्माण कार्य पूरा होने के बाद वे जनता की सेवा के लिए समर्पित होंगे। उनका निर्माण कार्य पूरा होने के बाद वे जनता की सेवा के लिए समर्पित होंगे। वहीं उपमुख्यमंत्री श्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि इन क्लीनिकों को जल्द से जल्द शुरू किया जाना चाहिए ताकि आम जनता यहां स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ उठा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.