Delhi बनेगी सिंगल यूज़ प्लास्टिक मुक्त शहर

Delhi को Single-use plastic मुक्त शहर बनाने की दिशा में प्रयास करते हुए सरकार ने यह कदम उठाया है। अन्य विकल्पों को दिया जाएगा बढ़ावा।

न्यूज़

Delhi: दिल्ली सचिवालय में आज पर्यावरण मंत्री गोपाल राय (Gopal Rai) की अध्यक्षता में सिंगल यूज प्लास्टिक के अन्य विकल्पों पर काम करने वाले नए स्टार्ट-अप और सेल्फ हेल्प ग्रुप्स तथा संबंधित विभाग के अधिकारियों के साथ संयुक्त बैठक की गई । इस बैठक के दौरान सिंगल यूज़ प्लास्टिक के अन्य विकल्पों को आम जनता में अधिक से अधिक बढ़ावा देने की कार्य परियोजनाओं पर चर्चा की गई।

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने सिंगल यूज प्लास्टिक के अन्य विकल्पों पर काम करने वाले नए स्टार्ट-अप और सेल्फ हेल्प ग्रुप्स के द्वारा लगाए गए स्टाल्स का भी जायज़ा लिया। इस अवसर पर पर्यावरण मंत्री ने बताया कि सिंगल यूज प्लास्टिक के अन्य विकल्पों को बढ़ावा देने के लिए सरकार नई ग्रीन स्टार्टअप पॉलिसी ला रही है।

बैठक के बाद दिल्ली सचिवालय में आयोजित महत्वपूर्ण प्रेसवार्ता को सम्बोधित करते हुए पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बताया कि प्रदूषण को बढ़ावा देने में सिंगल यूज़ प्लास्टिक भी एक एहम भूमिका निभाता हैं। सिंगल यूज प्लास्टिक वस्तुओं के उपयोग को रोकने के लिए जागरुकता अभियान जरूरी है। इसी दिशा में आगे बढ़ते हुए दिल्ली सरकार ने दिल्ली सचिवालय के सभी कार्यालयों में 1 जून से सिंगल यूज़ प्लास्टिक से उत्पादित सभी वस्तुओं को बैन करने की शुरुआत की हैं, लेकिन सिंगल यूज़ प्लास्टिक को बैन करने से सरकार के सामने दो चुनौतियां भी हैं, जिसमें सबसे पहले सिंगल यूज़ प्लास्टिक के उत्पादन, सप्लाई और बिक्री से जुड़े लोगों की आय पर प्रभाव और दूसरा इसके अन्य विकल्पों को आम जनता तक पहुंचाना मुख्य हैं।

Also read: दिल्ली सरकार ने रोडसाइड ग्रीन कवर को बढ़ाने के लिए किया जिलास्तरीय टास्क फोर्स का गठन

पर्यावरण मंत्री ने बताया कि इन दो बिंदुओं पर विचार-विमर्श करने के लिए दिल्ली सचिवालय में सिंगल यूज प्लास्टिक के अन्य विकल्पों पर काम करने वाले नए स्टार्ट-अप और सेल्फ हेल्प ग्रुप्स के प्रतिनिधियों और पर्यावरण विभाग, एनडीएमसी , उद्योग विभाग, डीपीसीसी , एमसीडी , दिल्ली कैंटोनमेंट बोर्ड आदि के अधिकारियों के साथ संयुक्त बैठक की गई | इस बैठक में करीबन 17 स्टार्ट अप्स और सेल्फ हेल्प ग्रुप्स ने भाग लिया ।

बैठक के दौरान सिंगल यूज़ प्लास्टिक के अन्य विकल्पों पर काम करने वाले लोगों को कैसे बढ़ावा दिया जाए, इस पर सभी के साथ चर्चा की गई | इसी दिशा में आगे बढ़ने के लिए सरकार ने जून के महीने में साप्ताहिक मेले का आयोजन करने का निर्णय लिया हैं , जहां यह सभी स्टार्ट अप्स और सेल्फ हेल्प ग्रुप्स अपने द्वारा उत्पादित सिंगल यूज़ प्लास्टिक के अन्य विकल्पों की प्रदर्शनी लगाएंगे | साथ ही जो भी लोग सिंगल यूज़ प्लास्टिक के उत्पादन से जुड़े हुए हैं , उनके लिए भी सरकार नई ग्रीन स्टार्टअप पॉलिसी ला रही है, ताकि वे सिंगल यूज़ प्लास्टिक के अन्य विकल्पों के व्यवसाय में जुड़ सकें और सरकार इसके लिए उनको सहायता भी प्रदान करेगी ।

-सिंगल यूज़ प्लास्टिक के अन्य विकल्पों की लगाई गई प्रदर्शनी

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बताया कि सिंगल यूज़ प्लास्टिक के अन्य विकल्पों पर कार्य कर रही 17 स्टार्ट अप्स और सेल्फ हेल्प ग्रुप्स के लोगों ने दिल्ली सचिवालय में प्रदर्शनी लगाई, जिसमें दिल्ली के विभिन्न जिलों से आए प्रतिनिधियों ने भाग लिया। इस प्रदर्शनी में सिंगल यूज़ प्लास्टिक के अन्य विकल्प जैसे मिट्टी के बर्तन, कपड़े, पेपर और जूट से बने बैग्स, बायो डिग्रेडेबल चीज़ों से बनी क्रॉकरी को प्रदर्शित किया गया। साथ ही रीसाइकल्ड प्लास्टिक से बनी चीज़ें जैसे ट्रेज, फूलदान, स्टैंड, फोटो फ्रेम्स आदि,कंपोस्टेबल उत्पाद, कंपोस्टेबल खाद्य पैकेजिंग सामग्री , घरेलू सजावट का सामान भी इस प्रदर्शनी में शामिल रहें ।

-सिंगल यूज़ प्लास्टिक बेचने वाले दुकानदारों की लिस्ट जारी करने के दिए गए निर्देश

पर्यावरण मंत्री ने बताया कि सिंगल यूज़ प्लास्टिक को पूर्ण रूप से दिल्ली में बैन करने के लिए एमसीडी को भी सिंगल यूज़ प्लास्टिक की बिक्री से जुड़े दुकानों की एक लिस्ट बनाने के निर्देश जारी किए गए हैं। भविष्य में उन्हें सिंगल यूज़ प्लास्टिक के अन्य विकल्पों पर कार्य कर रहें स्टार्ट-अप्स के साथ जोड़कर , आगे की कार्य परियोजना तैयार की जाएगी ।

विश्वासनगर में भी 855 लोगों ने ड्राइविंग लाइसेंस के लिए स्लॉट बुक किया था, जिसमें से 266 लोग ड्राइविंग टेस्ट देने के लिए पहुंचे थे। इसमें से 149 लोग ऑटोमेटिक ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक पर पास हुए, जबकि 117 लोग फेल हो गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.