द्वारका में खुले मैनहोल से उपनगर में हादसों का अंदेशा

द्वारका। खुले मेनहोल और नाली के ढक्कन गायब होने से द्वारका में फुटपाथ पर पैदल चलना खतरनाक हो गया है। मेनहोल के कवर गायब हैं, जिससे दुर्घटना की संभावना बनी रहती है। यह प्रमुख मार्गों के साथ-साथ मास्टर प्लान सड़कों पर भी देखा जा सकता है। 5 अक्टूबर 2022 की शाम को सेक्टर 15 भारत […]

Delhi न्यूज़

द्वारका। खुले मेनहोल और नाली के ढक्कन गायब होने से द्वारका में फुटपाथ पर पैदल चलना खतरनाक हो गया है। मेनहोल के कवर गायब हैं, जिससे दुर्घटना की संभावना बनी रहती है। यह प्रमुख मार्गों के साथ-साथ मास्टर प्लान सड़कों पर भी देखा जा सकता है।

5 अक्टूबर 2022 की शाम को सेक्टर 15 भारत विहार, द्वारका की एक घरेलू सहायिका सुधा देवी सेक्टर 13 में एक मेले में जाकर घर लौटते समय एक खुले मैनहोल / नाले में गिर गई। घटना के बाद, वह अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

सेक्टर 3, 4, 5, 1, 12, 13, 14, 16, और 8 ऐसे क्षेत्र हैं जहाँ रास्तों पर सबसे अधिक संख्या में लापता नाली कवर हैं। शहर में नाली के ढक्कन गायब होने के कारण पैदल चलने वालों को अक्सर खतरा बना रहता है। रात में हालात तब खतरनाक हो जाते हैं जब खुले मेनहोल और नालियों को देखना मुश्किल हो जाता है।

सिटीस्पाइडी ने अधिकारियों को जमीनी हकीकत से अवगत कराने के लिए इन मैनहोलों के लापता कवर और खुले नालों के कवर की तस्वीरें ली हैं।

Credit: CitySpidey
Credit: CitySpidey
Credit: CitySpidey
Credit: CitySpidey
Credit: CitySpidey
Credit: CitySpidey
Credit: CitySpidey
Credit: CitySpidey
Credit: CitySpidey
Credit: CitySpidey

Leave a Reply

Your email address will not be published.