नेशनल एथलेटिक्स चैंपियनशिप में फरीदाबाद को मिले दस पदक

पहली नेशनल ओपन मास्टर एथलेटिक्स चैंपियनशिप में फरीदाबाद जिले के पांच खिलाडियों ने अपना बेहतरीन खेल प्रदर्शन कर चार स्वर्ण, चार रजत पदक और दो कांस्य सहित कुल 10 पदक जीते।

Faridabad न्यूज़
Faridabad got ten medals in National Athletics Championship

Faridabad: एथलेटिक्स फैडरेशन आफ इंडिया के द्वारा आयोजित पहली नेशनल ओपन मास्टर एथलेटिक्स चैंपियनशिप में फरीदाबाद जिले के पांच खिलाडियों ने अपना बेहतरीन खेल प्रदर्शन कर चार स्वर्ण, चार रजत पदक और दो कांस्य सहित कुल 10 पदक जीते। गांव मच्छगर स्थित जिला एथलेटिक्स संघ के कार्यालय में विजेता खिलाड़ियों का अभिनन्दन समारोह किया गया।

जिला एथलेटिक्स संघ फरीदाबाद के कार्यकारी अध्यक्ष सत्यवीर धनखड ने बताया कि फरीदाबाद की सीमा यादव ने 1500 मीटर और 5000 मीटर की दौड़ में स्वर्ण पदक विजेता बन जिले का नाम रोशन किया। हरियाणा पुलिस में कार्यरत नरियाला गांव निवासी मनोज कुमार ने लांग जंप और जेवेलिन थ्रो इवेंट में रजत पदक जीता है। ग्रेटर फरीदाबाद के खेड़ीकलां निवासी धर्मेन्द्र ने 5000 मीटर और 1500 मीटर दौड़ में स्वर्ण पदक जीता।

हरियाणा पुलिस में कार्यरत कौराली गांव निवासी ज्ञानराज ने 100 मीटर में रजत पदक और 200 मीटर में कांस्य पदक जीता। हरियाणा पुलिस में कार्यरत घरोंड़ा गांव निवासी संजय कुमार ने डिस्कस थ्रो में रजत और शॉट पुट इवेंट में कांस्य पदक विजेता बना। बावाना गांव निवासी सतपाल ने 5000 मीटर दौड़ में रजत पदक हासिल कर जिले का नाम रोशन किया है।

सत्यवीर धनखड ने बताया कि हरियाणा के सबसे पहले ओलम्पिक खिलाड़ी और सबसे पहले एशियाड गोल्ड मैडलिस्ट भीम अवार्डी भीम सिंह, एशियाड पदक विजेता और नेशनल रिकार्डधारी भूपेंदर कालीरमण, पूर्व जिला खेल अधिकारी अनीता भाटिया और अजय चौधरी, युवा जिला महासचिव इंडियन नेशनल लोकदल फरीदाबाद द्वारा राष्ट्रीय प्रतियोगिता के पदक विजेता खिलाड़ियों को सम्मानित किया गया।

ये भी पढ़ें: लोगों को दीवाना बना रहा फिल्म ‘सोहरियां दा पिंड आ गया’ का जादू

भीम अवार्डी भीम सिंह ने कहा कि खिलाड़ियों को कम आयु में ज्यादा खेल दबाब न देकर आयु वर्ग के अनुसार ही वर्क आउट कराकर राज्य और राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के लिए तैयार करें। जिससे खिलाडी का भविष्य उज्जवल रहे। एशियाड मैडलिस्ट भूपेंदर कालीरमण ने कहा कि किसी भी खेल के खिलाड़ियों के अभिभावक अपने बच्चों को सभी प्रकार के नशों से दूर रखें। क्योंकि नशा जीवन को खत्म करता चला जाता है और भविष्य अंधकारमय हो जाता है।

पूर्व जिला खेल अधिकारी अनीता भाटिया ने कहा कि अभिभावक अपने बच्चों को आयु के हिसाब से ही पोषक तत्व देते रहें। जिससे खिलाड़ी अपने खेल प्रदर्शन के दौरान पूरी तरह से स्वस्थ रहें और प्रतियोगिता के दौरान बेहतरीन परिणाम दे सकें।

युवा महासचिव अजय चौधरी ने कहा कि आज के दौर में युवाओं का नशे की तरफ रुझान बढ रहा है। इसको रोकने के लिए खिलाड़ी, अभिभावक और प्रशिक्षक अपने आसपास खेल का माहौल देने का कार्य करें। जिससे युवाओं का ध्यान खेल की तरफ आकर्षित हों।

सम्मान समारोह में वरिष्ठ समाजसेवी एडवोकेट जेपी धनखड, साजिद हुसैन, घनश्याम, सीमा बडग़ूजर, महेश मैंम्बर, जोगेंदर धनखड़, कुलदीप ठाकुर, बिजेंदर सिंह धनखड और लांसनायक रणवीर सिंह ने सभी पदक विजेता खिलाड़ियों को बधाई देते हुए भविष्य में और भी अच्छा खेल प्रदर्शन करने का आशीर्वाद दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.