फरीदाबाद में बरसात ने दी गर्मी और उमस से राहत पर शहर की व्यवस्था चरमराई

सुबह करीब नौ बजे शुरू हुई बरसात दोपहर बाद तक रुक रुक कर जारी रही। जिससे मौसम खुशगवार हो गया। वहीं दूसरी तरफ नगर निगम की लापरवाही के कारण बरसात के दौरान शहर की व्यवस्था बुरी तरह चरमरा गई।

Faridabad न्यूज़

Faridabad: कुछ दिनों से लगातार पड़ रही भीषण गर्मी और उमस भरे माहौल ने शहर के लोगों का जीना दुश्वार कर दिया था। तपती गर्मी के कारण जहां लोगों को अपने रोजमर्रा के कामों को करने में परेशानी आ रही थी। वहीं गर्मी के कारण वायरल और उल्टी दस्त के मरीजों की संख्या में रोज इजाफा हो रहा था, लेकिन बृहस्पतिवार सुबह मौसम के करवट लेने से लोग काफी राहत महसूस कर रहे है। सुबह करीब नौ बजे शुरू हुई बरसात दोपहर बाद तक रुक रुक कर जारी रही। जिससे मौसम खुशगवार हो गया। वहीं दूसरी तरफ नगर निगम की लापरवाही के कारण बरसात के दौरान शहर की व्यवस्था बुरी तरह चरमरा गई। जगह जगह जलभराव के कारण यातायात जाम की समस्या भी उत्पन्न होने लगी।

राहत के साथ झेलनी पड़ी परेशानी

दिनभर जमकर हुई बरसात ने जहां लोगों के तन और मन को खूब ठंडक दी है, वहीं दूसरी तरफ शहर के कई इलाकों में बरसात के कारण लोगों को परेशानियां झेलने के लिए भी मजबूर होना पड़ा। हार्डवेयर से व्हर्लपूल चौक तक सडक़ निर्माण न होने से जहां बरसाती पानी भर गया, वहीं दिनभर यहां वाहन चालकों को जाम की समस्या का सामना करना पड़ा। इसके अलावा भी शहर के कई इलाकों में जल भराव के कारण लोगों को आने जाने में परेशानी का सामना करना पड़ा। सबसे ज्यादा बुरी तरह स्थित एनआइटी विधानसभा क्षेत्र की थी। यहां विभिन्न सड़कें बरसाती पानी में जलमग्न हो गई। यदि बरसात के बाद जलभरा और अन्य समस्याएं न होती तो शहर के मौसम में आए खुशनुमा बदलाव का लोग दोगुना मजा उठा सकते थे, लेकिन समस्याएं झेलने के बाद भी लोग इस बात को लेकर काफी निश्चिंत थे कि आखिरकार उन्हें गर्मी से तो इस बरसात ने काफी राहत दी है।

ये भी पढ़ें:: Faridabad: चेतावनी बाद भी नहीं जागा निगम तो बरसात में हो जाएगा शहर बदहाल

राहत के साथ दी चेतावनी

नगर निगम की तरफ से कई प्रमुख सड़कों का निर्माण कार्य पूरा कर लिया गया है। जिसके कारण इन सड़कों पर बरसात के बाद भी जलभराव की समस्या उत्पन्न हुई। वर्ना इन स्थानों पर जरा सी बरसात के बाद ही स्थिति बद से बदतर हो जाती थी। इसके अलावा निगमायुक्त यशपाल यादव द्वारा पिछले दिनों उठाए गए ठोस कदमों की वजह से भी इस बार भारी बरसात के बावजूद शहर में स्थिति काफी हद तक नियंत्रण में रही। निगमायुक्त ने गतवर्ष के अंत में 31 दिसंबर याद है न नामक अभियान चलाया गया था। जिसके तहत शहर में सफाई अभियान चलाए गए थे और वर्षों से जाम नालों व सीवर की सफाई करवाई गई थी। जिसके कारण दिनभर आई बरसात के बाद पहले के मुकाबले इस बार जलभराव की समस्या कम उत्पन्न हुई है। जहां कहीं जलभराव हुआ भी है तो वह कुछ अधूरे कामों की वजह से है।

औद्योगिक क्षेत्र में काफी राहत

एनआइटी औद्योगिक क्षेत्र में सड़कों का निर्माण होने से लोगों को काफी राहत मिली है। इस इलाके की तीनों ही प्रमुख सडक़ों के अलावा हार्डवेयर से सेक्टर 22 तक की सडक़ बुरी तरह जर्जर हो गई थी। यहां स्थित सैंकड़ों छोटे बड़े कारखानों में लाखों की संख्या में काम के लिए आने वाले मजदूरों को जर्जर सड़कों के कारण परेशानी हो रही थी। इनमें से दो सड़कों का निर्माण पूरा हो चुका है। हार्डवेयर से प्याली और व्हर्लपूल चौक तक काम अधूरा होने से लोगों को कुछ परेशानी हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.