शहर को डस्ट फ्री जोन बनाने के लिए सड़कों के किनारे की हरियाली को हटाकर जगह को सीमेंटेड करने पर एनजीटी नाराज, निर्माण कार्य पर रोक लगाई

शहर को डस्ट फ्री जोन बनाने के लिए ग्रीन बेल्ट व सड़कों के किनारे, पार्क में बने पाथवे की हरियाली को हटाकर सीमेंटेड करने के खिलाफ दाखिल याचिका पर सुनवाई करते हुए तीन दिन पहले नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने सख्त रुख अपनाया।

न्यूज़

Noida शहर को डस्ट फ्री जोन बनाने के लिए ग्रीन बेल्ट व सड़कों के किनारे, पार्क में बने पाथवे की हरियाली को हटाकर सीमेंटेड करने के खिलाफ दाखिल याचिका पर सुनवाई करते हुए तीन दिन पहले नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने सख्त रुख अपनाया। एनजीटी ने इस मामले में निर्माण कार्य सीमेंटेड के किए जा रहे हैं उन पर रोक लगा दी, साथ ही नियमों के विपरीत लगाई गई टाइल्स को हटाने के निर्देश दिए। एनजीटी ने नेचुरल तरीके से भूजल को बढ़ाने के निर्देश भी दिए।

एनजीटी के आदेश के बाद पेड़-पौधों के आसपास से कंक्रीट हटाने का काम नोएडा प्राधिकरण ने शुरू कर दिया है। नोएडा प्राधिकरण के उद्यान विभाग ने सेक्टर-132 में 45 मीटर चौड़ी रोड के किनारे लगे पेड़ों के आस-पास की कंक्रीट तुड़वाकर हटवाई गई।

गौरतलब है तीन दिन पहले ही एनजीटी ने पर्यावरणविद विक्रांत तोंगड़ और डॉ. सुप्रिया की याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस अरुण कुमार त्यागी और विशेषज्ञ डॉ. अफरोज अहमद की पीठ ने कहा, जो दावे यहां किए गए हैं वह एनजीटी अधिनियम 2010 की अधिसूची-1 में दिए गए सुझावों के अनुपालन नहीं किए जाने का सवाल उठाते हैं। इससे पर्यावरण को होने वाले नुकसान पर ध्यान केंद्रित करते हैं। दो महीने के अंदर गलत तरीके से बनाए गए फुटपाथ पार्क में पाथवे रोड साइड में लगाए गए सीमेंट के टाइल हटाये जाये।

ये भी पढ़ें: Noida के वंचित 25 सेक्टरों के छह लाख लोगों को इस साल सितंबर तक मिलने लगेगा गंगाजल

नोएडा प्राधिकरण के महाप्रबंधक पीके कौशिक ने बताया कि यह काम अब लगातार करवाया जाएगा। जहां पर भी पेड़ों के आस-पास कंक्रीट है उसे जल्द से जल्द हटवाने की कोशिश की जा रही है। इसको लेकर उद्यान विभाग के तीनों सर्कल में निर्देश भी जारी कर दिए गए हैं। शहर को डस्ट फ्री जोन बनाने के लिए अब तक सड़कों के दोनों ओर 250 किलोमीटर के दायरे में टाइल्स बिछा दी गई हैं। नए सेक्टरों में सौ किलोमीटर के दायरे में जो काम किया जा रहा है। जिसे अब रोक दिया गया है। एनजीटी ने नोएडा और ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के साथ गौतमबुद्ध नगर डीएम को नोटिस जारी किया है और इस संबंध में अगली सुनवाई 26 अगस्त को होनी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.