Noida: BSA ने बंद कराए गौतमबुद्ध नगर समेत अन्य स्थानों के 16 स्कूल

निशुल्क एवं अनिवार्य शिक्षा का अधिकार कानून प्रभावी होने के बाद बिना मान्यता के चल रहे स्कूलों पर की गई कार्रवाई के अंतर्गत गौतमबुद्ध नगर के 16 स्कूल बंद हुए।

न्यूज़

Noida: उत्तर प्रदेश में निशुल्क एवं अनिवार्य शिक्षा का अधिकार कानून के तहत बिना मान्यता के चल रहे स्कूलों को बंद करने के निर्देश बेसिक शिक्षा विभाग ने दिए हैं। शासन से आए आदेश के बाद जिला बेसिक शिक्षा विभाग ने जिले के चारों शिक्षा खंडों में कार्रवाई करते हुए हाल ही में 16 स्कूलों को बंद करा दिया।

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी (बीएसए) ऐश्वर्य लक्ष्मी ने बताया कि बिना मान्यता वाले किसी भी स्कूल को अब राज्य में संचालित नहीं होने दिया जाएगा। जो बच्चे इन स्कूलों में पढ़ रहे है, उन्हें अन्य विद्यालयों में उसी कक्षा से प्रवेश दिलाया जाएगा, ताकि बच्चों का वर्ष खराब न हो।

गौतमबुद्ध नगर जिले में बड़ी संख्या में बिना मान्यता के स्कूल चल रहे हैं। कई बार कार्रवाई के बाद भी विभागीय लापरवाही के चलते ये स्कूल दोबारा खुल जाते हैं। काफी दिनों से आ रही लगातार शिकायतों और उच्च अधिकारियों के निर्देशों के बाद भी इन पर लगाम नहीं लग पा रही थी। शिक्षा का अधिकार अधिनियम प्रभावी हो जाने के बाद से ही प्रदेश में गैर मान्यता प्राप्त विद्यालयों का संचालन पूरी तरह से प्रतिबंधित है।

ये भी पढ़ें: Noida: स्कूली बच्चे सिखाएंगे पेरेंट्स को यातायात-अनुशासन

शिक्षा निदेशक बेसिक शिक्षा के द्वारा जारी किए गए निर्देशों के बाद बीएसए ऐश्वर्य लक्ष्मी ने नोएडा (बिसरख ब्लॉक क्षेत्र) के स्कूलों का निरीक्षण किया तो इनमें मान्यता प्राप्ति के कागजात ही नहीं मिले। कुल 16 स्कूलों पर कार्रवाई में नोएडा के 10 स्कूल शामिल रहे, जबकि एक दनकौर ब्लॉक, दो दादरी ब्लॉक और तीन स्कूल जेवर ब्लॉक के थे। बंद कराए गए 16 स्कूलों में लगभग 70 से लेकर 120 तक विद्यार्थी पढ़ रहे हैं। बीएसए ने यहां निकट में चल रहे परिषदीय विद्यालय के शिक्षकों को निर्देश दिए हैं कि इन बच्चों का परिषदीय विद्यालयों में नामांकन कराया जाए, ताकि बच्चों का वर्ष खराब न हो।

जिले में करीब 200 स्कूल बिना मान्यता के चल रहे हैं। इनमें 70 फीसदी स्कूल नोएडा क्षेत्र में हैं जिनमें नर्सरी से लेकर कक्षा आठ तक बच्चे पढ़ते हैं। कुछ स्कूल तो 10वीं-12वीं तक की पढ़ाई कराते हैं, जबकि परीक्षा फॉर्म जुगाड़ से भर कर दूसरे मान्यता प्राप्त स्कूलों से परीक्षा दिलाते हैं। कई बार फॉर्म स्वीकृत नहीं होने की स्थिति में बच्चों का भविष्य खराब हो जाता है। पहले भी कई ऐसे मामले सामने आए हैं। ट्रांसफर सर्टिफिकेट के नाम पर भी ऐसे स्कूल अभिभावकों को परेशान करते हैं और बच्चों का भविष्य दांव पर लग जाता है।

बेसिक शिक्षा विभाग के संयुक्त निदेशक गणेश कुमार ने बीएसए को बिना मान्यता के चल रहे स्कूलों को बंद कराने का आदेश जारी कर दिया है। उन्होंने ने बताया कि विद्यालय के संचालकों से एक लाख रुपये जुर्माना वसूलने को लेकर भी निर्देश जारी किया है। बिना मान्यता वाले स्कूलों की मान्यता को निरस्त करने के बावजूद भी अगर कोई व्यक्ति स्कूलों को संचालित करता है तो उससे 10 हजार रुपये प्रतिदिन जुर्माना वसूला जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.