Noida: स्कूली बच्चे सिखाएंगे पेरेंट्स को यातायात-अनुशासन

ट्रैफिक विभाग का उत्तर प्रदेश में पहली बार अभिनव प्रयोग। इसके तहत पुलिस कमिश्नरेट के ट्रैफिक पार्क में स्कूली बच्चों को बुलाकर ट्रैफिक नियमों की जानकारी दी गई और अपने अभिभावकों को भी इस दिशा में जागरूक करने के लिए प्रोत्साहित किया गया।

न्यूज़

Noida: सड़कों पर वाहन चलाने के दौरान चालकों द्वारा यातायात-अनुशासन का पालन कराने के तमाम प्रयास असफल हो जाने के बाद अब नोएडा ट्रैफिक पुलिस (Noida Traffic Police) में बच्चों के माध्यम से बड़ों को ट्रैफिक का अनुशासन सिखाने की ट्रैफिक पॉलिसी बनाई गई है। इसके तहत आज नोएडा के सेक्टर 108 स्थित पुलिस कमिश्नरेट के प्रांगण में स्कूली बच्चों को ट्रैफिक नियमों की जानकारी दी गई।

बच्चों को फिजिकली और मैनुअली, दोनों तरीकों से ट्रैफिक के प्रति जागरूक किया गया। इस विषय में डीएसपी ट्रैफिक गणेश प्रसाद कहते हैं कि इसके पीछे मंशा यह है कि जब अभिभावक घर के बाहर ट्रैफिक के नियमों को तोड़ें तो बच्चे उन्हें समझाएं और नियम तोड़ने से रोकें।

वे कहते हैं कि हम लोग लगातार स्कूलों से संवाद कर रहे हैं और इसके अच्छे परिणाम आ रहे हैं। बच्चों ने बड़े उत्साह से कैंप में भाग लिया। बच्चों का कहना है कि वे घर जाकर अपने पेरेंट्स को ट्रैफिक नियमों की जानकारी देंगे और बिना हेलमेट या सीट बेल्ट के उन्हें गाड़ी चलाने नहीं देंगे। साथ ही यह भी समझाएंगे कि गाड़ी चलाते समय फोन पर बात करना कितना घातक साबित हो सकता है।

डीएसपी ट्रैफिक गणेश प्रसाद शाह कहते हैं कि ऐसा प्रयोग करने वाला नोएडा उतर प्रदेश का पहला शहर है। इससे पहले सिर्फ मुंबई और बेंगलुरु में ही ट्रैफिक पॉलिसी पर काम हुआ है। उन्होंने यह भी बताया कि इस पॉलिसी से शहर के मॉल को भी जोड़ा जाए, जिससे मॉल प्रबंधन भी अपने यहां आने वाले लोगों को यातायात के प्रति जागरूक कर सके। ये काम वे किसी शो रूम ऑनर से करवा सकते हैं या किसी रेस्टोरेंट अथवा अन्य माध्यम से। इससे उनकी भी ब्रांडिंग होगी और लोग भी यातायात के प्रति जागरूक होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.