Noida में ration card को लेकर फैले भ्रम की ये है सच्चाई!

हाल ही में नोएडा में राशन कार्ड को लेकर काफी भ्रम की स्थिति फैली हुई थी। संबंधित अधिकारियों के अनुसार सच्चाई कुछ और है।

न्यूज़

Noida: अभी हाल की ही बात करें तो सोशल मीडिया (social media) पर नोएडा में राशन कार्ड (ration card) को लेकर यह भ्रम फैला हुआ था कि पात्रता की सरकारी शर्तों पर खरा न उतरने पर मुफ्त राशन पाने वालों से वसूली की जाएगी।

इस खबर से ऐसा भ्रम फैला है कि लोगों में राशन कार्ड सरेंडर करने की होड़ मच गई। जिले में अभी तक 4300 से अधिक लोग अपना राशन कार्ड सरेंडर कर चुके हैं।

इस विषय में प्रशासनिक स्तर पर खाद्य एवं रसद विभाग से स्पष्टीकरण आया है कि यह महज एक सामान्य: सत्यापन प्रक्रिया है। राशन कार्ड सरेंडर और वसूली जैसा कोई आदेश नहीं है।

नोएडा के जिला पूर्ति विभाग क्षेत्रीय अधिकारी बृजेश पाल ने बताया कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के अंतर्गत वर्ष 2016 में जो व्यक्ति पात्र थे, उन्हें ही राशन कार्ड जारी किए गए थे। निश्चित है कि सात वर्षों में काफी व्यक्तियों की स्थिति में सुधार हुआ होगा। इसी क्रम में राशन कार्ड का सत्यापन किया जा रहा है। कुछ लोगों ने स्वेच्छा से अपने राशन कार्ड सरेंडर किए हैं और कुछ कैटेगरी से बाहर हो गए हैं।

उन्होंने बताया कि राशन कार्ड सत्यापन की प्रक्रिया एक सामान्य प्रक्रिया है। यदि इस दौरान कोई अपात्र पाया जाता है तो ऐसे लोगों के राशन कार्ड निरस्त अवश्य किए जाएंगे।

बृजेश पाल ने यह भी बताया कि वे व्यक्ति अपात्र होंगे, जो आयकर दाता हों, घर में एसी, चार पहिया वाहन, ट्रैक्टर या हार्वेस्टर हो, एक से अधिक शस्त्र लाइसेंस हों, पांच एकड़ से अधिक सिंचित भूमि हो, पांच केवीए या अधिक क्षमता के जनरेटर हों, परिवार की सालाना आय गांव में दो लाख, शहर में तीन लाख हो। अन्य व्यक्ति अपात्र नहीं होंगे।

 ये भी पढ़ें: Noida में सड़क दुर्घटना-बहुल 14 ब्लैक स्पॉट चिन्हित, एंबुलेंस की तैनाती

बृजेश पाल ने कहा कि जो भी व्यक्ति अपात्र होंगे, उनके कार्ड कैंसिल किए जाएंगे, लेकिन उनसे किसी प्रकार की कोई रिकवरी नहीं की जाएगी, न ही कोई कानूनी कार्रवाई की जाएगी। शासन द्वारा निर्देश जारी होने पर हम लोग फील्ड में जाकर राशन कार्डों का सत्यापन करेंगे, जो लोग खुद ही अपना राशन कार्ड जमा कर देंगे, उनका राशन कार्ड सरेंडर हो जाएगा। बाकी जो लोग पात्र पाए जाएंगे, उन का भी राशन कार्ड सरेंडर कराया जाएगा। इन कार्डों की जगह वंचित रह गए पात्र लोगों के राशन कार्ड बनाए जाएंगे।

गौरतलब है कि जिले में 367 राशन की दुकानें हैं। सभी को निर्देशित किया गया है कि अपने राशन कार्ड की जांच कराएं। जो लोग अपात्र हैं, उनकी सूची उपलब्ध कराएं। इस कार्रवाई के परिणामस्वरूप उनका राशन कार्ड निरस्त किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.