सीवर ओवरफ्लो के कारण फरीदाबाद एनएच 2 ई के निवासी नारकीय जीवन जीने को मजबूर

सीवर जाम होने की वजह से गंदा पानी ओवरफ्लो होकर सडक़ों और गलियों में बहता रहता है, इस कारण स्थानीय निवासियों का जीवन नारकीय हो गया है।

न्यूज़

Faridabad: एनएच-2 ई ब्लॉक के निवासी पिछले पांच वर्षों से सीवर ओवरफ्लो की समस्या से जूझ रहे हैं। सीवर जाम होने की वजह से गंदा पानी ओवरफ्लो होकर सडक़ों और गलियों में बहता रहता है, इस कारण स्थानीय निवासियों का जीवन नारकीय हो गया है। चारों तरफ सीवर का पानी भरा होने से इस ब्लॉक में फल और सब्जी विक्रेता तक नहीं आते। वहीं गंदे पानी की वजह से यहां अनेक लोग चर्म रोगों का शिकार भी हो चुके हैं। इलाके लोग पांच साल से पार्षद, विधायक और नगर निगम से शिकायत करते आ रहे हैं। निगम के ऐप 311 में भी कई बार शिकायत की जा चुकी है। परेशान होकर एक व्यक्ति ने सीएम विंडो में भी शिकायत की है। लेकिन समस्या का आज तक समाधान नहीं हो पाया।

स्लम बस्ती सी हो गई है ब्लॉक की हालत

नगर निगम की लापरवाही के कारण एनएच दो ई ब्लॉक की हालत किसी स्लम बस्ती से भी बदतर हो गई है। एक तरफ नगर निगम के अधिकारी सीवर लाइनों की सफाई के नाम पर लाखों रुपये खर्च करने के दावें कर रहे हैं। सीवर लाइनें साफ करने वाले सूपर शकर मशीनों के ठेकेदारों को करोड़ों रुपये का भुगतान किया जाता है, लेकिन निगम पिछले पांच सालों के दौरान एनएच दो के इस छोटे से ब्लॉक की सीवर लाइनों को साफ नहीं कर पाया है। लाइनें बुरी तरह जाम होने की वजह से सीवर का गंदा पानी ओवरफ्लो होकर चारों तरफ बहता रहता है। चारों तरफ भरे इस गंदे पानी से दिन भर दुर्गंध उठती रहती है। जिसके कारण लोगों का घरों से बाहर निकलना तो दूर अंदर बैठना तक मुश्किल हो जाता है।

ये भी पढ़ें: Faridabad: 33 वीं बिग्नर्स रोलर स्केटिंग प्रतियोगिता का आयोजन

स्कूली बच्चों को भी करना पड़ता है मुश्किलों का सामना

एनएच दो ई ब्लॉक में केएल मेहता दयानंद शिक्षण संस्थान का एक हाई स्कूल भी है। इस स्कूल में एनएच दो के अलावा आसपास के इलाकों के सैंकड़ों बच्चे पढ़ते हैं, लेकिन ठीक स्कूल के सामने ही हर समय सीवर का गंदा पानी भरा रहता है। ऐसे में पैदल निकलने के लिए यहां कोई रास्ता नहीं बचता। इस समय से परेशान होकर इस ब्लॉक में रहने वाले लोग समस्या के समाधान के लिए पिछले पांच सालों से शिकायत करते आ रहे हैं। नगर निगम, सीएम विंडो और अन्य संबंधित अधिकारियों को शिकायत करने वाले यशपाल भाटिया, अंजू रानी, चंदर प्रकाश, जैकी, नीलम, गुलशन, दीपक, डिंपल, श्रवण कुमार, मुन्ना, पूजा, बाला, रजनी, बबीता, नरेंद्र, राजू, सोनू, इत्यादि ने बताया कि सीवर का पानी स्कूल तक पहुंच रहा है। जिससे बच्चों को परेशानी होती है।

शिकायतों का असर नहीं

यशपाल भाटिया

एनएच दो निवासी यशपाल भाटिया ने बताया कि इस संबंध में उन्होंने सीएम विंडो में शिकायत की थी, लेकिन समस्या का समाधान करने की बजाए संबंधित अधिकारियों ने लीपापोती कर मामले को निपटा दिया। निगम का दावा है कि ऐप 311 पर आने वाले हर समस्या का समाधान किया जाता है। लेकिन उनकी समस्या के आगे ऐप 311 भी फेल साबित हो चुका है।

बरसात में हो जाता है बुरा हाल

बिमला देवी

एनएच दो ई ब्लॉक निवासी बिमला देवी ने बताया कि यहां आम दिनों में ही सीवर का पानी ओवरफ्लो होकर हर समय भरा रहता है। यहां जरा सी बरसात आते ही पानी की निकासी नहीं हो पाती है। ऐसे में आने वाले दिनों यदि भारी बरसात हुई तो यहां स्थिति बद से बदतर हो जाएगी, लेकिन बार बार शिकायत करने के बावजूद निगम उनकी समस्या पर ध्यान नहीं दे रहा है।

सफाई के नाम पर दिखावा

हरीश कुमार

एनएच दो ई ब्लॉक निवासी हरीश कुमार का कहना है कि बार बार शिकायत करने पर नगर निगम द्वारा यहां कई बार सीवर लाइनें साफ करने के लिए सूपर शकर मशीन भेज दी जाती है, लेकिन मशीन सफाई के नाम पर सिर्फ दिखावे करके लौट जाती है। दिखावे की सफाई के बाद चंद घंटों की राहत तो मिलती है। इसके बाद फिर से सड़कों और गलियों में सीवर का गंदा पानी भरने लगता है। यहीं हालत रही तो लोग मकान बेचकर जाने को मजबूर हो जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.