महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखकर सड़कें और सार्वजनिक स्थल का विकास हो

सार्वजनिक परिवहन या फिर सार्वजनिक स्थानों पर महिलाएं अपने को सुरक्षित नहीं महसूस करती हैं और इन सब के पीछे कहीं न कहीं हमारी रूढ़िवादी सोच और वो परंपराएं हैं, जो महिलाओं को कमतर मानती हैं।

Faridabad न्यूज़

Faridabad: स्वयंसेवी संस्था ब्रेकथ्रू द्वारा स्त्रीलिंक प्रोग्राम के अंतर्गत ‘यूथ चौपाल’ का आयोजन किया गया। डबुआ कालोनी स्थित भोजपुरी धर्मशाला में आयोजित यूथ चौपाल में ब्रेकथ्रु द्वारा की गई सेफ्टी आडिट की रिपोर्ट डीसीपी, एनआईटी, नितिश अग्रवाल द्वारा जारी की गयी।

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि महिलाओं के लिए सुरक्षित माहौल बनाना हम सब की जिम्मेदारी है। रिपोर्ट बताती है कि आने-जाने के रास्तों, सार्वजनिक परिवहन या फिर सार्वजनिक स्थानों पर महिलाएं अपने को सुरक्षित नहीं महसूस करती हैं और इन सब के पीछे कहीं न कहीं हमारी रूढ़िवादी सोच और वो परंपराएं हैं, जो महिलाओं को कमतर मानती हैं।

उन्होंने कहा कि महिलाएं बाजार से लेकर अपने कार्यस्थल, स्कूल जैसी जगहों पर बिना डरे आसानी से आ-जा सके, इसके लिए हम लोगों को मिलकर आधारभूत संरचना जैसे स्ट्रीट लाइट, सड़कों आदि को ध्यान में रखकर डेवलप करना होगा। साथ ही उनके लिए सुरक्षित माहौल भी बनाना होगा। हमें लगता है इसकी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी हमारे युवाओं की है। क्योंकि युवा हमारा भविष्य हैं और वे ही बदलाव लेकर आएंगे। पुलिस अपने स्तर से महिलाओं को सुरक्षित माहौल देने का प्रयास लंबे समय से कर रही है, इसके लिए समाज को भी जिम्मेदारी लेनी होगी।

ये भी पढ़ें: Faridabad: बिजली निगम की कार्यशैली से हेल्पलाइन नंबर 1912 फेल

कार्यक्रम में कम्युनिटी पुलिसिंग व सीनियर सिटीजन सेल की इंचार्ज सविता ने बच्चों की हेल्पलाइन 1098 व सीनियर सिटीजन के लिए जारी की गई हेल्पलाइन 7290010000 के बारे में बताया। उन्होंने दुर्गा शाक्ति एप और साइबर क्राइम/ फ्रॉड की हेल्पलाइन 1930 और नशे के खिलाफ शिकायत के लिए 9050891508 के बारे में जानकारी देते हुए महिलाओं को अपनी शिकायत दर्ज कराने के कानूनी पहलुओं की जानकारी भी दी।

इस अवसर पर ब्रेकथ्रू के स्त्रीलिंक प्रोग्राम की वरिष्ठ समन्वयक, प्रोग्राम, कृतिका कपिल ने बताया कि यह सेफ्टी ऑडिट डबुआ कालोनी में मार्च से मई माह के बीच में किया गया। इस ऑडिट के माध्यम से हमारा प्रयास था कि युवा खुद यह देखें कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए कौन-कौन से कारण महत्वपूर्ण है और वह खुद इस ऑडिट के माध्यम से असुरक्षित रास्तों, परिवहन के साधन और आधारभूत संरचना की कमियों को जान सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.