सनशाइन हिल्योस सोसाइटी के निवासियों और बिल्डर के बीच मेंटेनेंस के विवाद को लेकर हंगामा

Sunshine Helios सोसाइटी के निवासियों ने आज जमकर हंगामा किया और बिल्डर और प्राधिकरण के खिलाफ नारेबाजी कर अपना विरोध जताया।

न्यूज़

Noida: सेक्टर 78 स्थित सनशाइन हिल्योस (Sunshine Helios)सोसाइटी के निवासियों ने आज जमकर हंगामा किया और बिल्डर और प्राधिकरण के खिलाफ नारेबाजी कर अपना विरोध जताया। यहां निवासियों का गुस्सा इसलिए भड़का, क्योंकि मेंटेनेंस नहीं जमा करने पर बिल्डर के आदमी सोसाइटी का पावर बैकअप काटने पहुंचे थे। एओए गठन, प्राधिकरण के नोटिस और हाईकोर्ट के आदेश के बाद यहां के निवासियों में मेंटेनेंस देना बंद कर रखा है। हंगामे की सूचना मिलते ही थाना 113 की पुलिस टीम मौके में पहुंच गई और बीच-बचाव कर मामले को शांत कराया पुलिस का कहना है कि शिकायत पर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

अपार्टमेंट ओनर्स एसोसिएशन (एओए) के अध्यक्ष रिटायर कर्नल सिद्दू का कहना है कि सोसाइटी में अपार्टमेंट ओनर्स एसोसिएशन का गठन होने के बाद भी बिल्डर ने सोसाइटी को एओए को हैंडवोअर नहीं किया और बिल्डर ने मार्च में इलीगल नोटिस जारी कर 30 अप्रैल तक का समय दिया था, जिसके अनुसार अगर मेंटेनेंस नहीं जमा किया गया तो फ्लैट का मेंटेनेंस नहीं किया जायेगा और जनरेटर के पावर बैकअप तो रोक दिया जाएगा।

एओए के अध्यक्ष रिटायर कर्नल सिद्दू ने बताया कि दिसंबर 2020 से ही से पहले मेंटेनेंस प्रीपेड मीटर से काट दिया गया था। एओए गठन और प्राधिकरण के नोटिस हाईकोर्ट के आदेश के बाद यहां के निवासियों में मेंटेनेंस देना बंद किया हुआ है। बिल्डर ने अब तक कोई भी डेलीगेटेड बिजली कनेक्शन नहीं दिया गया है। बिल्डर ने 2014 में पीवीवीएनएल के साथ साथ 11 केवी डेडिकेटड लाइन के लिए एक एग्रीमेंट साइन किया था। एग्रीमेंट के अनुसार 2020 तक लाइन लेनी थी लेकिन का पालन नहीं किया गया और जनरेटर पर भी 1 केवीए पर 83 का फिक्स चार्ज किया हुआ है जो पूरी तरह से अवैध है ।

ये भी पढ़ें: Noida: करोड़ों रुपए खर्च के बावजूद साइकिल ट्रैक योजना फाइलों में दफन

सोसाइटी के निवासी आशीष पांडा बताते हैं कि जनरेटर का बिल हम पे करते हैं और दबाव बनाने के लिए बिल्डर ने विद्युत लोकपाल में याचिका डाली थी, लेकिन लोकपाल ने भी स्पष्ट कर दिया था कि आप बिजली का बिल और मेंटेनेंस को एक नहीं कर सकते हैं। पहले 3 साल के बिजली के बिल का ऑडिट रिपोर्ट सबमिट की जाए के बाद ही नोटिस दिया जा सकता है।

बिल्डर पर लैंड यूज, वन टाइम लीज रेंट, पेनाल्टी और ब्याज को मिलाकर करीब 70 करोड का बकाया है यह पैसा जमा न होने के बाद भी बाद ही प्राधिकरण फ्लैट की रजिस्ट्री करना शुरू करेगा, जबकि हिल्योस सोसाइटी में जिन 286 फ्लैट ओनर की रजिस्ट्री रुकी हुई है वह फ्लैट की पूरी कीमत का पूरा भुगतान कर चुके हैं। यहां के निवासियों का कहना कि जब निवासियों ने पूरा पैसा बिल्डर को दे दिया है, तो अब प्राधिकरण की ओर से बिल्डर पर सख्त कार्रवाई क्यों नहीं की जा रही है जो हम पर इलीगल नोटिस भेज कर हमें परेशान कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.