नोएडा : एसडीओ व उनकी टीम ने बिजली संबंधी समस्या को लेकर सेक्टर-51 का किया निरीक्षण

नोएडा। चिलचिलाती गर्मी में एक दिन भी बिना बिजली के गुजारा करना चुनौती बन जाता है, हालांकि सेक्टर 51, नोएडा के निवासियों के लिए यह एक दुखद वास्तविकता है क्योंकि वहां बिजली ट्रिपिंग का मुद्दा लगातार बना हुआ है। ऊंचे पेड़ों, बिजली के खंभों और अन्य कारणों से इस समस्या में योगदान दिया है। उसी […]

Noida

नोएडा। चिलचिलाती गर्मी में एक दिन भी बिना बिजली के गुजारा करना चुनौती बन जाता है, हालांकि सेक्टर 51, नोएडा के निवासियों के लिए यह एक दुखद वास्तविकता है क्योंकि वहां बिजली ट्रिपिंग का मुद्दा लगातार बना हुआ है। ऊंचे पेड़ों, बिजली के खंभों और अन्य कारणों से इस समस्या में योगदान दिया है। उसी का समाधान खोजने के लिए, शनिवार, 3 सितंबर, 2022 को, उप-मंडल अधिकारी और उनकी टीम ने पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड से बार-बार ट्रिपिंग, वोल्टेज में उतार-चढ़ाव, ओवरलोडिंग के आवर्ती मुद्दों पर सेक्टर-51 के क्षेत्र का निरीक्षण किया।

निरीक्षण के दौरान एसडीओ बीके कश्यप ने जूनियर इंजीनियर राम मिलन व लाइनमैन अजय की टीम के साथ सेक्टर-51 के आरडब्ल्यूए के साथ बैठक की। बैठक में आरडब्ल्यूए के महासचिव संजीव कुमार, संयुक्त सचिव श्रीनिवास सहित अन्य सदस्य और निवासी इन सभी मुद्दों के समाधान के लिए मंथन करने के लिए उपस्थित थे।

आरडब्ल्यूए के महासचिव, सेक्टर-51, संजीव कुमार कहते हैं, “हमारे क्षेत्र में नियमित रूप से बिजली में उतार-चढ़ाव हो रहा है, जिसके कारण हमारे क्षेत्र में हर दिन 10 से 12 ट्रिपिंग बहुत लंबी अवधि के लिए होती है। साथ ही, क्षेत्र में लंबे समय से लंबित पेड़ की कटाई से बिजली ट्रिपिंग हो रही है और उतार-चढ़ाव। इसके अतिरिक्त हम मांग करते हैं कि विभिन्न स्थानों पर क्षतिग्रस्त, जंग लगे खंभों को बदला जाना चाहिए।

कुमार का कहना है कि ऊंचे पेड़ तारों से उलझे हुए हैं जो बिजली के ट्रिपिंग का एक कारण है और इन पेड़ों की छंटाई की मांग की है। उन्होंने कहा कि बैठक में पेड़ों की छंटाई, ट्रांसफार्मर स्थलों का नियमित निरीक्षण और ट्रिपिंग के मुद्दे सहित कई विषयों पर चर्चा की गई।

बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि उतार-चढ़ाव की समस्या के समाधान के लिए पेड़ों को काटा जाएगा। इसके लिए रोजाना सुबह 10:00 बजे से दोपहर 12:00 बजे के बीच बिजली बंद करनी पड़ती थी। साथ ही ट्रांसफार्मर क्षेत्र में लगे सभी खराब एयर सर्किट ब्रेकरों को ट्रांसफार्मर क्षेत्र की सफाई के साथ बदलने का निर्देश दिया।

इसके अलावा, ट्रांसफार्मर के चारों ओर के खंभे, जिन पर बिजली के उपकरण लगे हैं, उन्हें भी एक दूसरे के जितना होना चाहिए था, उससे अधिक करीब पाया गया। बैठक में अनुरोध किया गया कि ऐसे खंभों को तुरंत बदला जाए और तारों के बीच में लकड़ी की पट्टी लगाकर ट्रांसमिशन लाइन को उसके तीन चरणों में बांटने का भी अनुरोध किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.